What is Internet Called in Hindi ( हिन्दी ) – इंटरनेट का हिन्दी मतलब

Updated 🕒
Feb 16, 2021 2:07 pm IST
What is Internet Called in Hindi - Internet ko hindi me kya kahte hai - Digital Madad

इंटरनेट की खोज मनुष्य की महान खोजों में से एक है जिसने हमारे रोजाना के जीवन को ही बदलकर रख दिया है.

इंटरनेट की उपयोगिता का अंदाजा Lockdown Period से लगाया जा सकता है.

Advertisement

जब पूरे देश में Lockdown था तब  इंटरनेट  ही था जिसकी मदद से लोग घर बैठे ही अपने काम को Continue कर सके और साथ ही स्कूलों में भी इंटरनेट की मदद से ही Students की Studies को Continue किया गया था.

इंटरनेट का सबसे बड़ा फायदा यही है कि अगर आपके फोन में या  कंप्यूटर  में इंटरनेट की सुविधा है तो आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है.

आप घर बैठे ही कोई भी चीज सीख सकते हैं, अपना Entertainment कर सकते हैं, घर बैठे ही Shopping कर सकते हैं.

और आजकल तो हर एक Bill Payment भी Online ही की जाती है. आज के Article में आप जानोगे कि Internet को हिन्दी में क्या कहतें है  और  इसकी खोज किसने और कब की थी ?

[ad]

इंटरनेट का हिंदी मतलब – What is Internet Called in Hindi

What is Internet Called in Hindi - Internet ko hindi me kya kahte hai - Digital Madad
What is Internet Called in Hindi – Internet ko hindi me kya kahte hai – Digital Madad

इंटरनेट का हिंदी मतलब अंतरजाल, कंप्यूटरों का अंत: संजाल होता है .

इंटरनेट कंप्यूटर मोबाइल फोन आदि के माध्यम से एक दूसरे से बात करना और सूचना का आदान प्रदान करने वाला माध्यम होता है. इंटरनेट शब्द को English के शब्द Internetworked से लिया गया है जिसका हिंदी में मतलब अंतरजाल होता है.

इसका यह मतलब है कि इंटरनेट हजारों लाखों कंप्यूटर को एक साथ जोड़ने वाला एक जाल है. इसके माध्यम से कंप्यूटर एक दूसरे के साथ Communicate कर सकते हैं लेकिन कई बार इसे हिंदी में भी इंटरनेट ही बोल दिया जाता है .

लेकिन असल में इसका हिन्दी शब्द अंतरजाल ही होता है जो कि एक हिंदी भाषा का शब्द है. कभी कभी इंटरनेट को नेटवर्कों का नेटवर्क भी कहा जाता है.

इंटरनेट की मदद से ही हम घर बैठे दूसरे कंप्यूटर चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में हो उससे सूचना का आदान प्रदान कर सकते हैं. बस इसके लिए यह शर्त है कि उस कंप्यूटर में इंटरनेट की सुविधा होनी चाहिए.

केवल सूचना का आदान प्रदान ही नहीं आजकल इंटरनेट की मदद से घर बैठे ही हर एक काम बहुत ही आसानी से और कुछ ही मिनटों में किया जा सकता है जैसे कि Online Shopping, Online काम करना, Payments को Send और Receive करना, Online Classes आदि.

“इंटरनेट” शब्द की उत्पत्ति

इंटरनेट शब्द की उत्पत्ति English के शब्द “Inter-Working” से की गई थी क्योंकि इसके माध्यम से ही दुनिया के बहुत सारे कंप्यूटर Network को एक साथ जोड़ा गया था, इसलिए इससे Inter-Working कहा जाने लगा.

और फिर इसके बाद Inter-Working के Short-Form को बाद में इंटरनेट कहा जाने लगा और आज भी इसे इंटरनेट ही कहा जाता है.

इंटरनेट में मुख्य रूप से 2 शब्दों का इस्तेमाल किया जा गया है Inter और Net .

Inter का मतलब होता है एक से दूसरे तक और Net का मतलब होता है जाल.

इस तरह से इंटरनेट का पूरा मतलब बनता है एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक का जाल जिससे कि वह दोनों एक दूसरे के साथ जानकारी को Share कर सकते हैं.

INTERNET का फुल फॉर्म  ?

Internet  का Full Form “Interconnected Network” होता है जिसका मतलब  पूरे World के Public और Private Organizations के Servers को एक साथ जोड़ना होता है .

इंटरनेट को Network of Networks भी कहा जाता है जिसमें कि बहुत सारे Networks को एक दूसरे के साथ Connect करके इंटरनेट जैसा एक जाल बनाया जाता है. 

इसे International Network भी कहा जाता है.

इसी के साथ क्या आप यह जानते हैं कि  Google जो कि दुनिया का सबसे बड़ा Search Engine है उसका Full Form क्या होता  है?

Google का  फुल फॉर्म  “Global Organization of Oriented Group Language of Earth”  है.

Yahoo जो कि Google के आने से पहले सबसे बड़ा Search Engine माना जाता था उसका  फुल फॉर्म  “Yet Another Hierarchically Organized Oracle” है. 

इंटरनेट की खोज किसने की और उसका आविष्कार कब हुआ ?

इंटरनेट को बनाने का कार्य 1857 से शुरु हो गया था. इसी दिन दुनिया का सबसे पहला Man-Made Satellite Launch किया गया था जिसे “के सोवियत संघ” के  द्वारा बनाया गया था. इस Satellite का नाम Sputnik था.

इस Satellite को लेकर अमेरिका और सोवियत संघ देश के बीच में लड़ाई हो गई क्योंकि अमेरिका भी ऐसा Satellite बनाने का ही प्रयास कर रहा था लेकिन वह सफल नहीं हुआ था. पर सोवियत संघ ने अमेरिका से पहले इस Satellite को बनाने में सफलता हासिल कर ली थी.

इस Mission में सफलता हासिल करने के लिए अमेरिका की सरकार के द्वारा Advanced Research Project Agency को बनाया गया था जिसका Main Motive देश को Technology के Field में दूसरे देशों से आगे रखना था.

बाद में इस Agency का नाम बदल कर Defense Advanced Project Agency रख दिया गया लेकिन ऐसे Mission को पूरा करने के लिए एक ऐसे Network की जरूरत थी जिससे कि बहुत कम समय में सूचना का आदान प्रदान किया जा सके.

और इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए  J.C.R.Licklider ने एक ऐसा Network बनाया जिससे कि कंप्यूटर एक दूसरे के साथ हर तरह की Information को आसानी से Share कर सकते हैं.  इसका नाम ARPANET  था और यह दुनिया का पहला Network था.

1959 में सबसे पहले 4 Universities को Connect करने के लिए इसका इस्तेमाल किया गया था.

धीरे-धीरे इस System का उपयोग बढ़ने लगा और 1972 तक ARPANET से Connect किए गए कंप्यूटरों की संख्या 23 हो गई और इसके बाद इससे दुनिया का सबसे पहला E-Mail किया गया था.

इससे इंटरनेट Field में Development की शुरुआत हो गई थी लेकिन फिर भी दुनिया इंटरनेट की खोज से काफी दूर थी.

फिर वैज्ञानिकों ने ARPANET को  Packet Radio से जोड़ने की तरकीब सोची जिससे कि Data Long Distance तक भी Travel कर सकता है.

इसमें Data को Travel करने के लिए किसी भी Wire की जरूरत नहीं होती है जैसे कि आजकल आप Wi-Fi में देख सकते हैं.

1974 में कई और सफल यत्नों के बाद  Vinton Cerf और  Robert Kahn द्वारा एक Paper Publish किया गया था जिसे “The Father of Internet” के रूप में भी जाना जाता है.

इस Mission में सफलता मिलने के बाद SETNET पर काम शुरू हो गया जिससे कि Satellite Network से Connect किया जा सकता था और इसकी मदद से ही बाद में दुनियाभर के Networks को एक दुसरे के साथ जोड़ा जाने लगा.

इसके बाद सन् 1979 में World Wide Web ( www ) की खोज की गई जिससे कि कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह की Information को इंटरनेट पर Search करके देख सकता था. WWW को  Tim Berners-Lee के द्वारा बनाया गया था.

इस तरह से कहा जाता है कि इंटरनेट को Officially 1 जनवरी 1983 को बनाया गया था.

इससे पहले इंटरनेट के जरिए Connect किए गए कंप्यूटर के Network Stable नहीं थे लेकिन TCP (Tranmission Control Protocol) और IP (Internet Protocol) की Establishment के बाद सभी Networks Stable हो गए.

इसलिए इस तारीख को ही इंटरनेट का Birth Date माना जाता है. सभी लोग यह मानते हैं कि इंटरनेट की खोज Tim Berners Lee के द्वारा की गई थी जिन्होंने World Wide Web का Invention किया था.

लेकिन इंटरनेट में सबसे ज्यादा Inventions Vinton Cerf और Robert Kahn ने की थी, इसलिए उन्हें इंटरनेट का Inventor कहा जा सकता है.

इंटरनेट को पहले Inter-Networking कहा जाता था जिससे कि बाद में Short-Form में Internet  कहा जाने लगा. धीरे-धीरे इसका उपयोग बढ़ना लगा और इसके कंप्यूटर के साथ-साथ Phone, Laptop, Tablets, Camera में भी इस्तेमाल किया जाने लगा.

Conclusion- आज हमने क्या जाना ?

इंटरनेट ने आज पूरे संसार को ही बदल दिया है.

आजकल हर एक Field चाहे वह Education हो, Banking हो, या फिर Business हो उसमें इंटरनेट का इस्तेमाल जरूर किया जाता है और ऐसा कहना भी गलत नहीं होगा कि इंटरनेट के बिना कोई भी काम सरलता और तेजी से नहीं किया जा सकता है.

लगभग हर एक व्यक्ति जिसके पास Smartphone है इंटरनेट का इस्तेमाल करता है चाहे वह काम के लिए हो या फिर Entertainment के लिए.

बढ़ती Technology के साथ-साथ इंटरनेट का इस्तेमाल भी बढ़ता जा रहा है और साथ ही इसकी Speed भी बढ़ती जा रही है.

थोड़े ही समय पहले Reliance के द्वारा 5G का Launch किया गया था जिससे कि इंटरनेट की Speed और भी अच्छी होगी. आजकल इंटरनेट एक Basic Need बन चुका है जिसके बिना जिंदगी का गुजारा नहीं किया जा सकता.

इंटरनेट की वजह से ही लोगों के बीच का Gap काफी कम हो गया है. इसकी मदद से ही एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के साथ चाहे वह किसी और देश में हो बात कर सकता है और साथ ही उसे देख भी सकता है.

आज के Article को पढ़ने के बाद आप जान गए होगे कि  इंटरनेट का हिन्दी मतलब क्या है  और  इसका Invention कब और कैसे किया गया था .

आज हर एक चीज को इंटरनेट पर Search करके ढूंढा जा सकता है और आगे Future में भी जिस तरह से Technology बढ़ रही है हमारे आसपास की हर एक चीज इंटरनेट से Connect होगी.

दिन प्रतिदिन इसका प्रयोग बढ़ता जा रहा है और ऐसा भी कह सकते हैं कि इंटरनेट के बिना तो जिंदगी जीने की कल्पना भी नहीं की जा सकती है.

अगर आप भी इंटरनेट का इस्तेमाल एक Positive Way में करते हैं तो इससे बेहतर तरीका आपके लिए और कोई नहीं होगा.

आप इससे हर एक कार्य कर सकते हैं और नया कार्य भी सीख सकते हैं. इंटरनेट का इस्तेमाल इतना ज्यादा बढ़ गया है कि अगर 1 दिन के लिए भी इसे बंद कर दिया जाए तो करोड़ों का नुकसान हो जाता है.

आपने इस Article में पढ़ा होगा कि पहले इंटरनेट का रूप क्या था और आज क्या है.

अब इसका Network कितना विशाल हो गया है और आगे भविष्य में भी जिस तरह से Technology और Internet में तरक्की हो रही है आपको इंटरनेट में और भी बहुत कुछ नया देखने को मिलेगा.

Advertisement
ट्रेंडिंग पोस्ट...☟

Comments

Comment...!!

Leave a Comment ( Reply 5-10 मिनट )